What should be the normal size of men’s penis? – पुरुषों के लिंग का सामान्य आकार

सदियों से यह एक बड़ी बहस का रहा है कि पुरुषों के जननांग/ लिंग/ शिश्न (penis) का आकार क्या होना चाहिए? पुरुषों के लिंग का सामान्य आकार निर्धारित करने के लिए कई वैज्ञानिक शोध भी चल रहे हैं। दरअसल मर्द हमेशा इस बात से परेशान रहते हैं कि लिंग के आकार का ज्यादा या कम होना, उन्हें सेक्स के दौरान मिलने वाली संतुष्टि पर असर डाल सकता है। शोध के दौरान अलग अलग पुरुषों पर जब अध्ययन किया गया तब पाया गया कि पुरुषों को केवल इस बात का डर होता है कि उनका लिंग छोटा है, लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है, सामान्यतः अधिकतर पुरुषों के लिंग लगभग सही आकार के होते हैं।

पुरुषों का गुप्तांग एक प्रजनन अंग (reproductive sexual organ) है, जिसका प्रयोग पुरुषों के द्वारा मूत्र के निष्कासन के लिए भी किया जाता है। पुरुषों के गुप्तांगों के मुख्य हिस्से, जड़, शरीर, शाफ्ट की त्वचा(skin of shaft) और ऊपर की त्वचा होती है। गुप्तांग का आकार अलग अलग समय पर भिन्न रहता है। इसका आकार दिन के अलग अलग समय, आसपास के बदलते तापमान और सेक्स के समय अलग होता है। गुप्तांग ज्यादा सर्दियों में सिकुड़ जाते हैं और तापमान सामान्य हो जाने पर या सामान्य से ज्यादा होने पर अपने सामान्य आकार में आ जाते हैं। पुरुष गुप्तांग की बढ़त शुरुआत में पांच साल तक की उम्र तक होती है और फिर (puberty) के एक साल पहले तक चलती है, यानी कि 12 से लेकर 17 वर्षों के दौरान लिंग अपना पूर्ण विकास कर लेता है।

नीचे कुछ तथ्य दिए गए, जिनसे आपको मर्दों के लिंग के सामान्य आकार का एक अंदाजा हो जाएगा।

अपने साथी के साथ सेक्स में लंबे समय तक आनंद उठाने के टिप्स

    • ज्यादातर मामलों में महिलाओं को पुरुषों के गुप्तांगों के आकार के संबंध में कोई चिंता नहीं होती। महिलाओं को अक्सर इस बात से कोई लेना देना नहीं होता कि पुरुष के लिंग का आकार क्या है। अक्सर यह पाया गया है कि पुरुष ही अपने गुप्तांग के आकार को लेकर फालतू में ही चिंतित होते रहते हैं। इसी चिंता में वो अपने लिंग की लम्बाई तो नहीं बढ़ा पाते हैं, मगर बिस्तर पर सेक्स के दौरान अपना प्रदर्शन अवश्य ख़राब कर देते हैं।
    • विश्व भर में शोध करने के बाद यह पाया गया कि कुल 45% पुरुषों के लिंग तथाकथित छोटे आकार के होते हैं। दरअसल यह छोटा आकार नहीं होता, बल्कि यह पुरुषों के लिंग का सामान्य आकार होता है। 
    • कई शोधों से यह साबित हुआ है कि ज्यादातर लोगों के लिंग की लंबाई 7 से 10 सेंटीमीटर तक होती है। यही पुरुषों के गुप्तांग की लंबाई मानी गई है। 
    • सेक्स के दौरान या उत्तेजित होने के दौरान लिंग का आकार बढ़कर 12 से 16 सेंटीमीटर तक पहुंच जाता है। इस दौरान इसकी मोटाई 12 सेंटीमीटर की होती है। 
    • बीजेयूआई नाम की संस्था द्वारा कुल 17 शोधों, में कुल 15,000 पुरुषों पर अध्ययन करने के बाद यह पाया गया कि केवल 5% पुरुषों के लिंग ही 3.94 इंच से छोटे होते हैं, जो कि असल में छोटा आकार है। 
  • शोध के दौरान यह भी पाया गया कि अलग अलग पुरुषों के गुप्तांग का आकार अलग अलग होने के बावजूद, उत्तेजित होने के बाद पुरुषों के लिंग का आकार बराबर हो गया था। यह दर्शाता है कि आकार में छोटे लिंग, उत्तेजित होने के पश्चात ज्यादा बड़े हो जाते हैं।

लिंग के आकार का वैज्ञानिक महत्व (The scientific importance of the size of the penis)

आपने ऐसा कई बार देखा होगा कि लोग डॉक्टर से सामान्य लिंग का आकार पूछते हैं। दरअसल अधिकांश पुरुषों को अपने सही लिंग के आकार के बारे में चिंता होती रहती है। वैज्ञानिक रूप से 3.94 इंच का आकार सामान्य है।  यह आम धारणा बन चुकी है। कई बड़े एवं विशेषज्ञ डॉक्टरों का मानना है कि लिंग का आकार गलत होने से यानी कि छोटा होने से दैनिक जीवन में कई समस्याओं का सामना कर पड़ सकता है। ऐसे कई व्यक्ति है जिनकी उम्र 40 वर्ष से भी ज्यादा हो जाती है लेकिन वे लिंग को छोटा मानकर शादी नहीं करते। ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि उन्हें लगता है कि इससे वे अपने साथी को संतुष्ट नहीं कर पाएंगे। कई डॉक्टर इस असंतुष्टि का फायदा उठाते हैं। वे पुरुषों के मन में दबे डर का फायदा उठाते हैं और उन्हें कहते हैं कि शल्य क्रिया के बाद लिंग का आकार बिल्कुल सही हो जाएगा। दरअसल शल्य क्रिया से लिंग का आकार तो बदल जाता है, मगर उससे माँसपेशियों में असमानता आ जाती है। इसलिए ऐसे किसी भी आपरेशन की जरूरत नहीं होती।

मर्दों के लिंग का औसत आकार (What is the average penis size)

हर व्यक्ति के लिंग का आकार अलग होता है। कुछ शोधों के अनुसार लिंग की सामान्य लंबाई को 3.5 इंच से 3.94 इंच तक पाया गया है। गौरतलब है कि लिंग उत्तेजित होने के दौरान 5.6 इंच लम्बा हो जाता है और उत्तेजना के दौरान लिंग की औसत मोटाई 4.8 इंच होती है। लिंग का आकार जो भी हो, पर यह उस व्यक्ति के लिए सामान्य होना चाहिए। कई लोगों की यह धारणा होती है कि शरीर की लंबाई से लिंग की लंबाई भी निर्धारित होती है। दरअसल यह अवधारणा पूर्णतः गलत है। विभिन्न ऊंचाई के पुरुषों के लोगों के लिंग की लंबाई अलग अलग देखी गई है। एक छह फीट से ऊपर पुरुष का लिंग शोध के दौरान 2.5 इंच भी पाया गया है। एक छोटे दुबले पतले व्यक्ति के लिंग की लंबाई 5.5 इंच भी देखी गई है। मनुष्य की लंबाई से उसके लिंग का कोई लेना देना नहीं होता।

लिंग का छोटा आकार (Small penis size)

व्यायाम से सेक्स लाइफ को बेहतर करने के तरीके

लिंग का छोटा आकार होना सिर्फ एक अवधारणा है जो कि गलत तरह की जानकारी से आती है। गुप्तांग एक गुप्त अंग जो दूसरों की नजरों में नहीं आता, इसलिए अक्सर यह होता है कि लोग अपने लिंग के लिए झूठ बोलते हैं। ऐसा अक्सर सेक्स कहानियों में भी पाया गया है कि लिंग के आकार को बढा चढ़ा के बताया जाता है। जो लोग छोटे लिंग की शिकायत करते हैं, उन्हे इरेक्टाइल डिस-फंक्शन (erectile dysfunction) की समस्या हो सकती है। जब एक व्यक्ति ऊपर से अपने लिंग को देखता है तो यह उसे छोटा दिखता है। यह पूर्वाभास (foreshadowing) का नतीजा होता है। पेट की मोटाई से भी आपका लिंग छोटा प्रतीत हो सकता है। यदि लिंग छोटा भी है (जैसा कि आपको लगता है) तो यह चिंतनीय नहीं है, क्योंकि छोटे आकार का लिंग इरेक्ट होने के बाद 100% तक लम्बा हो जाता है और वहीं एक लंबा लिंग इरेक्ट होने के बाद 75% तक लम्बा होता है। यह इस बात को दर्शाता है कि छोटे लिंग का आकार उत्तेजित होने बाद बढ़ सकता है और सेक्स के समय यह पूर्णतः संतुष्ट कर सकता है।

महिलाएं और लिंग का आकार (Size of penis and women)

कई तरह के शोध में यह पाया गया है कि महिलाओं को लिंग के आकार से कोई फर्क नहीं पड़ता। एक महिला सेक्स के दौरान लिंग की लंबाई से ज्यादा, उसकी चौड़ाई से ज्यादा आकर्षित होती है। दरअसल वे सेक्स की असल क्रिया (penetration), स्वछंद भाव से एक दूसरे के हस्तमैथुन (mutual masturbation) और मुखमैथुन (oral sex) से ज्यादा संतुष्ट तथा प्रसन्न होती हैं। एक महिला का गुप्तांग किसी भी आकार के पुरुष लिंग को अपने अंदर समाने की क्षमता रखता है। दरअसल महिलाओं के गुप्तांग यानी कि वैजीना(vagina) की लंबाई करीब 4 इंच तक बढ़ जाती है। अतः महिलाओं को किसी भी आकार का लिंग संतुष्ट कर सकता है।

महिलाओं पर हुए शोध क्या कहते हैं? (What studies says)

महिलाओं पर किए गए एक शोध के दौरान, पीएलओएस नामक संस्था ने यह पाया कि अधिकांश महिलाओं की यह राय थी कि बड़ा लिंग ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है। इस शोध के दौरान महिलाओं के सामने अलग अलग आकार के कुल 33, प्लास्टिक मॉडल से बने पुरुष लिंग (dildo) रखे गए और उन्हे उसमें से अपनी पसंद चुनने को कहा गया। अधिकांश महिलाओं ने 4 इंच के लिंग को चुना, जो कि इरेक्ट होने के पश्चात कुल 5 इंच का हो जाता है। इस शोध के परिणाम में यह बताया गया कि पुरुषों के लिंग का सामान्य आकार ही महिलाओं को संतुष्ट करने के लिए पर्याप्त है।

बीएमसी वुमेन जो कि महिलाओं के स्वास्थ्य के लिए लिखने वाली जानी मानी मैगज़ीन है, उसके द्वारा कराए गए शोध में यह दावा किया गया कि महिलाओं को पुरुषों के लिंग की लंबाई नहीं, बल्कि चौड़ाई महत्वपूर्ण लगती है। इस शोध द्वारा भी यही परिणाम दिया गया कि पुरुष वर्ग में जिस लिंग के आकार को छोटा माना जाता है वह महिलाओं के वर्ग में सामान्य है और एक औसत महिला को उस आकार के लिंग में ही रुचि होती है।

क्या लिंग के आकार को बढ़ाया जा सकता है? (Can the size of penis be increased)

संभोग/सेक्स की शक्ति को बढ़ाने के प्राकृतिक उपाय

लिंग का विकास केवल जन्मे के बाद 17 वर्षों तक ही होता है, इसके बाद वे बढ़ना बंद कर देते हैं। सामान्यतः लिंग के दो आकार होते हैं, पहला जब वो सामान्य रूप में हो और दूसरा जब वो उत्तेजित हो। सामान्य लिंग का आकार 3.94 इंच और उत्तेजित लिंग का आकार 5 इंच आदर्श माना गया है। कई बार लोगों की यह इच्छा होती है कि वे अपने लिंग को बढा सकें या उसके आकार में परिवर्तन ला सकें।  ऐसी कोई क्रीम, दवाई या व्यायाम नहीं है जो आपके गुप्तांग के आकार में वृद्धि कर सकें। लिंग के आकार को केवल सर्जरी की मदद से ही बढ़ाया जा सकता है। अगर आपके लिंग की कुल लंबाई इरेक्ट होने के बाद भी केवल 3 इंच ही रहती है, तब आपको सर्जरी की आवश्यकता है।

लिंग के आकार को लेकर भ्रम (The myth about the size of the penis)

ऐसा अक्सर देखा जाता है कि लोग पोर्न फिल्मों से प्रभावित होकर अपने लिंग का आकलन करने लगते हैं। यह लिंग के प्रति केवल और केवल एक भ्रम है, क्यूंकि पोर्न फिल्मों में अक्सर ग्राफिक्स की सहायता से गुप्तांग का आकार को बढ़ाकर दिखाया जाता है। कई बार ऐसा भी होता है कि पोर्न फ़िल्म में काम कर रहा अभिनेता शल्य क्रिया से अपने लिंग के आकार की बढ़ा लेता है, लेकिन हर पुरुष के लिए यह लाभकारी नहीं होते। कई बार लोग यह भी दावा करते हैं कि उनके पास लिंग को बढ़ाने के लिए एनलार्जर (enlarger) तथा एकसटेंडर (extender) है। लेकिन इन उत्पादों से लिंग को बढ़ाया नहीं जा सकता। ऐसे कई और मिथ भी फैले हुए हैं, जो बिल्कुल भी सत्य नहीं हैं। वे मिथ नीचे दिए गए हैं।

    • पहला और सबसे प्रमुख भ्रम यह है कि लिंग छोटे होते हैं। दरअसल लिंग का औसत आकार 3.5 इंच से 3.94 इंच होता है और यही आदर्श आकार है। 
    • कई पुरुषों को लगता है कि लिंग का ज्यादा आकार महिला को ज्यादा संतुष्ट करेगा और उनकी सेक्स लाइफ भी अच्छी होगी। दरअसल शोध में यह पाया गया है कि महिलाओं को सामान्य लिंग ही पसंद आते हैं और उनके लिए लिंग की चौड़ाई ज्यादा मायने रखती है। 
    • तीसरा और प्रमुख मिथ यह है कि महिलाएं कभी भी छोटे लिंग से उत्तेजित नहीं होती। दरअसल सेक्स के दौरान उत्तेजना लिंग से नहीं आती, आपके व्यवहार से आती है। सेक्स से पहले जितना ज्यादा समय गतिविधियां जारी रहती है, उतनी ही ज्यादा उत्तेजना बढ़ती है। 
    • दरअसल पुरुषों का लिंग एक जननांग भी होता है, चौथा मिथ यह है कि छोटे लिंग से जनन (reproduction) नहीं किया जा सकता। ऐसा नहीं होता, क्यूंकि छोटे लिंग से भी स्त्रवित होने वाले शुक्राणुओं में क्षमता होती है कि वे जनन कर सकें। 
    • एक मिथ जो आपको हर जगह सुनने को मिल जाएगा कि पुरुषों के पैर का आकार, उनके लिंग के आकार को तय करता है। दरअसल यह सरासर झूठ है और सिरे से गलत है। पुरुषों के लिंग का आकार और पैरों का आकार अलग अलग हो सकता है। 
  • पुरुष वर्ग में यह भी मिथ फैलाया जाता है कि एक इरेक्ट लिंग यानी कि एक उत्तेजित लिंग, सात इंच तक बड़ा हो जाता है। दरअसल यह सरासर गलत है और सच नहीं है क्यूंकि लिंग अपने आकार से केवल 1-2 इंच ही ज्यादा बढ़ता है। हालांकि उत्तेजित होने के दौरान चौड़ाई में फर्क देखने को मिल सकता है।

लिंग के आकार पर कुछ तथ्य (The details on the size of penis in men)

गर्भ निरोध – परिवार नियोजन के उपाय

मर्दों के गुप्तांग का आकार के बारे में कई ऐसी बाते जो अधिकांश मर्दों को नहीं पता होती। मर्दों में लिंग लम्बा होने पर इसकी लंबाई अधिकतम 12 से 16 सेंटीमीटर हो सकती है। अगर आपको BMI की समस्या है और आपकी उम्र बढ़ गई है तो आपका गुप्तांग पूरी तरह इरेक्ट नहीं हो पाएगा। इसका मतलब यह है कि उत्तेजित होने के वक़्त इसकी लंबाई कम रहती है। एक शोध में यह भी दावा किया गया है कि मर्द अपने गुप्तांग (penis) के आकार को सही नहीं मानते और अपनी मर्दानगी पर शक करते हैं। मर्दों का लिंग रात मे कई बार इरेक्ट हो सकता है। ऐसा कई शोधों में पाया गया है कि सुबह एक वक़्त लिंग का आकार अधिकतम होता है।

लिंग के आकार के आकलन का सत्य (The accuracy of the penis measurement)

पुरुषों के गुप्तांग की असल लंबाई उसे अच्छी तरह नापने से ही पता चल सकती है। कामुकता बढ़ने की स्थिति में इसके आकार में भिन्नता आ सकती है। यह आकार कई और चीजों पर भी निर्भर करता है, जैसे दिन का समय, कमरे का तापमान, सेक्स का स्तर और नापने यंत्र की कुशलता। अगर आप गोरिल्ला से पुरुषों के लिंग की तुलना करें तो यह पाएंगे कि पुरुषों का गुप्तांग (penis) ज्यादा मोटा होता है। और शोध में यह पाया भी गया है कि महिलाओं के लिए मोटाई ज्यादा महत्व रखती है।

लिंग की बढ़त (The growth of penis)

अलग अलग सूत्रों से नापने की पद्धति अपनाने से परिणाम भिन्न हो सकते हैं। अगर आप इसकी लंबाई खुद नापते हैं तो यह कुछ बताएगा और किसी अन्य व्यक्ति के नापने पर यह कुछ और भी हो सकता है। गुप्तांग बचपन से केवल 5 साल तक बढ़ता है और इसके बाद इसका विकास टीनेज में यानी कि 12 से 17 साल के दौरान होता है।

लिंग का आकार (The comparative size of the penis)

शोध में यह पाया गया है कि लिंग के आकार का संबंध शरीर के किसी भी अन्य हिस्से से नहीं होता। ऐसे कई कारण है जिनकी वजह से मनुष्यों में गुप्तांगों की बढ़त प्रभावित होती है। पर्यावरण के कारक इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं और कई बार जेनेटिक कारण भी गुप्तांगों के बढ़ने को प्रभावित करते हैं। गुप्तांगों का बढ़ना एंडोक्रीन डिसराप्टरट्स की मौजूदगी से भी प्रभावित होता है। ऐसे कई कारक है जो उसकी बढ़त में प्रभाव डालते हैं। अगर एक व्यक्ति के गुप्तांग का आकार इरेक्ट अवस्था में 7 सेंटीमीटर है तो ऐसे गुप्तांगों को विज्ञान जगत में “माइक्रो पेनिस” कहा जाता है।

छोटा लिंग होने के कारण (The reason for small size of the penis)

सेक्स के दौरान आँखों में देखना क्यूँ है ज़रूरी

लिंग का छोटा आकार पीसीबी तथा प्लास्टिसाईसर DEHP से संबंधित होता है। DEHP के मेटाबोलाइटस, जो कि गर्भवती महिला के मूत्र से जाते हैं, पुरुषों के लिंग छोटे होने की समस्या से जुड़े होते हैं। एक शोध के मुताबिक यह पाया गया कि कई हार्मोनल थेरेपीज की वजह से भी लिंग (penis) का आकार छोटा होता है। लिंग का आकार एस्ट्रोजन आधारित फर्टिलिटी औषधि के सेवन से भी कम होता है। इस दवाई को लेने से असमानता उत्पन्न होती है। अंततः इसके फलस्वरूप लिंग छोटा हो जाता है।

मर्दों का अपने लिंग के प्रति नजरिया (The male perception about penis)

ऐसा सामान्यतः पाया गया है कि मर्द हमेशा से ही अपने लिंग को छोटा मानते हैं और उन्हे लगता है कि उनका लिंग उनके साथी को संतुष्ट करने में सक्षम नहीं होगा। दरअसल देखने के नजरिये के कारण उन्हें उनका लिंग छोटा नजर आता है।

क्या लिंग का आकार बूढ़े होने पर घटता है? (Does penis size change naturally as you get older)

दरअसल लिंग की प्रकृति हमारे शरीर के अन्य अंगों से अलग होती हैं एवं उनका आकार हमारे बूढ़े होने पर घटता जाता है। शोध में यह पाया गया है कि बूढ़े होते हुए पुरुषों का लिंग नियमित अंतराल पर 0.1 इंच तक कम होता है।