Positions for deep sex and orgasm – बेहतरीन संभोग के लिए फायदेमंद मुद्राएं

अगर भावनात्मक रूप से देखा जाए तो एक दूसरे की आँखों में देखना और गहरे और कामुक संभोग की प्रक्रिया के लिए अपनी सांसों में तालमेल बैठाना काफी बेहतरीन होता है। पर तब क्या जब आप असल में बिल्कुल गहराई तक जाना चाहते हों? जी हाँ, हमारे कहने का मतलब कि संभोग की उन गहराइयों तक जहां तक पहले कोई भी अंग ना पहुंचा हो। जी हाँ, इस बारे में सोचना ही आपको काफी कामुक बना देता है।

नीचे ऐसी ही 11 ऐसी संभोग की मुद्राओं के बारे में बताया गया है, जो आपकी गहराई तक जाने में मदद करेगी और आपके काम तब आएंगी जब आप कुछ अलग और काफी कामुक चाहते हों।

फ्लैटिरोन (Flatiron style)

करने का तरीका (Ways)

चेहरे के बल लेट जाएं और कूल्हों को थोड़ा उठाकर रखें (अगर आप चाहें तो नीचे एक तकिया रख सकते हैं), और पैरों को सीधा करके फैला लें। कूल्हों के ऊँची स्थिति में होने की वजह से आपको संभोग की प्रक्रिया में काफी सहायता मिलती है।

फायदे (Benefits)

यह मुद्रा आपके जी स्पॉट (G-spot) को काफी बेहतरीन रूप से प्रभावित करती है। इसके अलावा अगर आप आलसी हैं तो भी यह आपके लिए काफी काम की सिद्ध होती है, क्योंकि इसके अंतर्गत आपको सिर्फ लेटकर अपने साथी को सारा काम करने देना होता है।

फेस ऑफ़ (Face off)

करने का तरीका (Ways)

जब वह बैठे हों तो उनकी गोद में जाकर बैठ जाएं और उनकी तरफ अपना मुंह कर लें। क्योंकि यहाँ पैर ज़्यादा फैले होते हैं, अतः आपका पुरुष साथी जो भी करता है, उसका आप पर अतिरिक्त प्रभाव पड़ता है।

फायदे (Benefits)

यहाँ से आप इस बात पर नियंत्रण कर पाने में सक्षम होंगी कि इस प्रक्रिया की गति क्या हो और आप कितनी गहराई तक जाना चाहती हैं।

काउगर्ल्स हेल्पर (Cowgirl’s Helper)

करने का तरीका (Ways)

काउगर्ल की मुद्रा की तरह आपका साथी पीछे की ओर होकर लेटता है तथा आप उसके ऊपर होती हैं, एवं आप उसपर से हटती हैं। यहाँ पर अलग चीज़ यह है कि इस कार्य में वह आपका सहयोग करता है। आपके कूल्हों या जाँघों को पकड़कर वह आपके वज़न को संभालता है तथा आपके झटकों पर नियंत्रण लाता है। इस मुद्रा की मदद से आपके जी स्पॉट पर काफी सकारात्मक प्रभाव पड़ता है और अपने झटकों के मुताबिक़ आप काफी गहराई तक भी जा सकती हैं।

फायदे (Benefits)

वह कहते हैं कि पुरुष इस मुद्रा को इसमें दिखने वाले दृश्यों की वजह से और उन्हें आप पर हावी होने के मिल रहे मौके की वजह से पसंद करते हैं।

काउगर्ल (Cowgirl)

करने का तरीका (Ways)

इस मुद्रा में आपका साथी पीछे होकर लेटता है एवं आप उसके ऊपर होती हैं, तथा आप उसकी छाती से  हटती एवं उसकी जाँघों पर से फिसलती हैं। कर्नर का कहना है कि इस मुद्रा की मदद से आप संभोग को और भी गहरा बनाने के लिए अपने पैरों को और भी ज़्यादा खोल सकती हैं।

फायदे (Benefits)

यह मुद्रा आपके जी स्पॉट ईवा क्लिटोरिस (clitoris) को काफी फायदा पहुंचाती है, जिसका अर्थ है कि आपके संतुष्ट होने की संभावना दोगुनी हो जाती है।

मिशनरी (Missionary)

करने का तरीका (Ways)

इस मुद्रा के अंतर्गत आप लेटी हुई अवस्था में होती हैं और आपका साथी भी आपके ऊपर होता है। इस समय दोनों का चेहरा आमने सामने होता है। इसे एक ख़ास कारण से सदाबहार माना जाता है – यह आपको कामोत्तेजना के साथ साथ संभोग की पूर्ण गहराई भी प्रदान करता है।

फायदे (Benefits)

इस प्रकार के संभोग में काफी मात्रा में आँखों एवं चेहरे के मिलन की प्रक्रिया होती है।

डॉगी (Doggy style)

करने का तरीका (Ways)

आप अपने हाथों और घुटनों के बल होती हैं और वह ठीक आपके पीछे घुटनों के बल होता है। इस मुद्रा का कोण आपको संभोग के दौरान काफी गहराई प्रदान करता है तथा यह जी स्पॉट को भी काफी प्रभावित करता है।

फायदे (Benefits)

इस मुद्रा के दौरान आपके पुरुष साथी का हाथ पूरी तरह स्वतंत्र होता है जिसकी मदद से वह आपके जननांगों या आपके स्तनों एवं निपल्स (nipples) को कामुक भाव से सहला सकता है।

काबूस (The Caboose)

करने का तरीका (Ways)

वह बैठा होता है और इस बार आप उनकी गोद में बैठती हैं पर आपका चेहरा उल्टी तरफ होता है। क्योंकि यह आपके लिए संभोग की आम मुद्रा नहीं है, अतः इसको प्रयोग में लाने के दौरान आपको एक बिल्कुल ही अलग अनुभव होता है। इस मुद्रा का नयापन इस संभोग को असल से ज़्यादा गहरा प्रतीत करवाता है।

फायदे (Benefits)

अपने साथी को ना देख पाना एक तरह के आश्चर्य की सृष्टि करता है – आपको सिर्फ उनकी छुअन का अहसास होता है।

स्कूप मी अप (Scoop me up)

करने का तरीका (Ways)

स्पूनिंग (spooning) की मुद्रा में एक दूसरे के पास पास लेट जाएं और अपने घुटनों को हल्का सा मोड़ें जिससे कि वह पीछे से आपके अन्दर आ सके। इस मुद्रा के अंतर्गत आपके पुरुष साथी के पास ज्यादा सहारा होता है, जिसका प्रयोग वह ज़्यादा गहराई तक जाने के लिए कर सकता है।

फायदे (Benefits)

इस मुद्रा का प्रयोग करने पर खुद को काफी मात्रा में जी स्पॉट से जुड़ी उत्तेजना महसूस करने के लिए तैयार कर लें। इसके अलावा यह उस समय के लिए भी श्रेष्ठ है जब आप दोनों ही थके हों लेकिन फिर भी आपके अन्दर इच्छा बाकी हो।

सीशेल (Seashell)

 

करने का तरीका (Ways)

अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने पैरों को फैलाकर ऊपर की ओर कर लें। अपने टखनों को अपने सिर की तरफ जितना कर सकें कर लें। इसके बाद आपका साथी मिशनरी की मुद्रा में आपके साथ संभोग करेगा। पैर काफी ज़्यादा फैले होते हैं जिससे ज़्यादा गहराई प्राप्त होती है।

फायदे (Benefits)

वह उंचाई की मुद्रा से आपके साथ संभोग करता है, जिसकी वजह से आपके क्लिटोरिस के उत्तेजित होने की संभावना पैदा होती है। आप अपने हाथों का प्रयोग  करके भी इसे उत्तेजित कर सकती हैं।

बटर चर्नर (Butter Churner)

करने का तरीका (Ways)

अपने टखनों को सिर के दोनों तरफ करके लेट जाएं। वह बैठी हुई अवस्था में आपके साथ संभोग की प्रक्रिया संपन्न करेगा। यह प्रक्रिया पूरी तरह से नयेपन पर आधारित है। इस अदभुत और नयी मुद्रा हर एक उत्तेजना काफी ज़्यादा बढ़ चढ़कर महसूस होती है।

फायदे (Benefits)

इस मुद्रा का प्रयोग करने पर आपका रक्त आपके सिर की तरफ आ जाएगा जिससे कई प्रकार की नयी उत्तेजनाएं पैदा होंगी।

ओम (The Om)

करने का तरीका (Ways)

वह अपने पैरों को मोड़कर या पालथी मारकर बैठता है। इसके बाद आप उसकी ओर देखते हुए उसकी गोद में बैठती हैं। अब आप उसकी पीठ के पीछे अपने पैरों को मोड़ लेती हैं, आप एक दूसरे को करीब खींच लेते हैं और आगे पीछे होते रहते हैं। यह मुद्रा आपके शरीर के अंगों को खोलने से सम्बंधित है – खासकर आपके पैरों और कूल्हों को।

फायदे (Benefits)

कर्नर का कहना है कि आप एक से ज़्यादा तरीकों से गहराई तक प्रवेश कर सकते हैं। अगर  आपको अपनी साथी के साथ और भी ज़्यादा कामुक होना है तो संभोग की प्रक्रिया समाप्त होने के समय अपने साथी की आँखों में आँखों में डालकर रहें।