Shighrapatan rokne ka upay – शीघ्रपतन और जल्द डिस्चार्ज को ऐसे रोके

समय से पहले शीघ्रपतन (एजैक्युलेशन या वीर्य का निकलना) काफी मर्द अपने जीवन में अनुभव करते हैं। यह ज़्यादातर उन मर्दों के साथ होता है जिनकी आयु 40 वर्ष से कम है और इसके फलस्वरूप काफी लोगों के सम्बन्ध और विवाह प्रभावित होते हैं।

शीघ्रपतन एक ऐसी समस्या है जो विवाहित जीवन को भी कई बार प्रभावित कर देता है। इसकी वजह से पुरुषों का आत्मविश्वास तो कम होता ही है साथ ही शर्मिंदगी और अपराध बोध भी मन में घर कर लेता है। इस समस्या से ग्रस्त मनुष्य काफी परेशान हो जाता है और कई बार वह कुछ ऐसा भी कर जाता है जो उसे नहीं करना चाहिए। पर यह आपके जीवन का अंत नहीं है। आपको समझना चाहिए कि यह समस्या काफी सामान्य है और इसका सामना करने वाले आप अकेले नहीं हैं।

ऐसे कई तरीके हैं जिनसे कि समय से पहले होने वाला शीघ्रपतन (एजैक्युलेशन) रोका जा सकता है। लेकिन यह प्रक्रिया धीरे धीरे काम करती है और जल्दी परिणामों की आशा ना करें। इस समस्या से निपटने में आपके साथी की भूमिका भी अहम होती है। उसे ही आपकी समस्या के बारे में आपको जागरूक करना चाहिए, तभी आपके बीच के सेक्स सम्बन्ध अच्छे होंगे।

मर्द सेक्स (sex) से जुड़ी कई समस्याओं का शिकार होते हैं, तथा समय से पहले शीघ्रपतन (वीर्य का निकल जाना) एक ऐसी समस्या है जो उन्हें काफी परेशान करती है। वे अपनी साथी को संतुष्ट करना चाहते हैं जिससे कि उसे भी सेक्स की प्रक्रिया में आनंद आए। परन्तु कई मर्द अपनी साथी के चरमसीमा (climax) तक पहुँचने से पूर्व ही स्खलित (ejaculate) हो जाते हैं। इस समस्या से ज्यादातर 40 साल से कम के पुरुष ही ग्रस्त होते हैं। उम्र बढ़ने के साथ ही यह परेशानी आसानी से दूर हो जाती है। हालांकि एक निश्चित उम्र के बाद इस समस्या के कारण शरीर में टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से गिर जाती हैं, जो कि आपके लिए बहुत बुरा होता है।

आपको अपनी इन समस्याओं के बारे में अपनी साथी से बात करने में हिचकना नहीं चाहिए क्यूंकि उनकी मदद से आप शाीघ्रपतन से आसानी से छुटकारा भी पा सकते हैं। इस बात को अपने दिमाग में बैठा लें कि सेक्सुअल इंटरकोर्स (sexual intercourse) आपकी शादीशुदा जिंदगी के लिए काफी आवश्यक है। अगर आप उससे दूर भागेंगे तो आप कुछ नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा आपके रिश्ते पर भी इसका काफी गलत प्रभाव पड़ सकता है। तो आप चिंता करना छोड़ दें और अपनी शादीशुदा जिंदगी को अपने पार्टनर के साथ इंजॉय (enjoy) करें। ऐसा करने से आप दुख और तनाव से तो निजात पाते ही हैं, बल्कि इसके अलावा आप शीघ्रपतन से भी आसानी से निजात पा सकते हैं। अगर आप शीघ्रपतन की समस्या से काफी परेशान हैं तो ऐसे में आप अपने डॉक्टर के पास जाकर उनसे इस बारे में सलाह ले सकते हैं।आमतौर पर यह समस्या उम्रदराज लोगों में देखी जाती है, परन्तु आजकल जवान लोग भी इसका शिकार हो रहे हैं। परन्तु चिंता ना करें ऐसे कई तरीके हैं जिन्हें अपनाकर आप समय से पहले वीर्यस्राव रोक सकते हैं।

शीघ्रपतन रोकने की क्या खाना (Shighrapatan rokne ke foods)

हरे प्याज़ (Green Onion)

हरे प्याज़ के बीज कामोत्तेजना में वृद्धि करते हैं, और यही कारण है कि यह पुरुषों में शीघ्रपतन रोकने में सहायता करते हैं। इन प्याज़ों की बीज आपकी शक्ति एवं स्फूर्ति में वृद्धि करते हैं, तथा उसकी सेक्स (sex) की क्षमता भी बढ़ाते हैं। शीघ्रपतन के इलाज के लिए इन बीजों को पीसकर इन्हें पानी के साथ मिश्रित कर लें। इस पेय पदार्थ का सेवन भोजन से पहले दिन में 3 बार करें। आपकी कामेच्छा एवं sex की क्षमता बढ़ाने एवं आपके गुप्तांगों को मज़बूती प्रदान करने में सफ़ेद प्याज़ भी काफी लाभदायक साबित होते हैं।

अदरक एवं शहद Ginger and Honey)

अदरक का सेवन करने से रक्त के संचार में वृद्धि होती है एवं पुरुषों के गुप्तांग की मांसपेशियों में विशेष रूप से रक्त का संचार होता है। इससे पुरुषों को स्खलन की प्रक्रिया के दौरान अधिक नियंत्रण प्राप्त होता है। अदरक इरेक्शन (erection) बनाए रखने में भी सहायक होता है क्योंकि यह शरीर को गर्म कर देता है, जिसके फलस्वरूप शरीर में रक्त का संचार तेज़ हो जाता है। शहद शक्ति प्रदान करने वाला कामोत्तेजक है एवं इससे अदरक की शक्ति में भी वृद्धि होती है। शीघ्रपतन रोकने के लिए आधी चम्मच अदरक को शहद के साथ मिश्रित करना एवं सोने से पहले इसका सेवन करना है।

लहसुन (Garlic)

लहसुन में कामोत्तेजक गुण होते हैं एवं यह आपको समय से पहले स्खलित हुए बिना सेक्स की प्रक्रिया लंबी करने में सहायता करता है। इस जीवाणुरोधी एवं जलनरोधी गुण पौधे के फाहे आपके शरीर में रक्त के संचार में वृद्धि करते हैं तथा शरीर को गर्म करके सेक्स की इच्छा में इज़ाफा करते हैं। शीघ्रपतन रोकने के लिए आप फाहों को चबा सकते हैं या फिर इन्हें घी में तलकर हर सुबह खाली पेट इनका सेवन कर सकते हैं।

शतावरी (Asparagus)

शीघ्र स्खलन का घरेलू इलाज, आप शायद इस बात को नहीं जानते होंगे कि एस्परैगस पौष्टिक गुणों और संश्लेषण होते हैं, जो कि पुरुषों में सेक्स की क्षमता को बढ़ाने में मददगार होता है, इससे आपको काफी सकारात्मक प्रभाव मिल सकते हैं। एस्परैगस में विटामिन और मिनरल्स की काफी उच्च मात्रा होती हैं, जो कि स्वस्थ्य शरीर और नर्वस सिस्टम को बढ़ावा देने में काफी मददगार होता है। एस्परैगस में होने वाले उच्च विटामिन ई पुरुषों के हार्मोन के काम को बढ़ाने में काफी प्रभावी माना जाता है।

केसर और दूध (Saffron and milk)

प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने के लिए दूध को आयुर्वेद में काफी आवश्यक माना जाता है एवं केसर तथा बादाम के साथ दूध के सेवन को समय से पहले होने वाले स्खलन को रोकने में काफी प्रभावी माना जाता है। बादामों को रातभर पानी में भिगो लें एवं गर्म दूध के साथ मिश्रित कर लें। आप इस पेय पदार्थ में दालचीनी एवं अदरक भी डाल सकते हैं।

सूखे खजूर (Dried Dates)

सूखे खजूर काफी शक्तिवर्धक खाद्य उत्पाद होते हैं एवं इनमें मस्तिष्क को ठंडा रखने के साथ कामेच्छा जगाने, शक्ति तथा स्फूर्ति में वृद्धि करने के गुण होते हैं। प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने के लिए100 ग्राम सूखे खजूर लें एवं इसमें बादाम, पिस्ता एवं बेल के बीज मिश्रित करें तथा बेहतरीन परिणामों के लिए इस मिश्रण का सेवन रोज़ाना करें।

किशमिश (Raisins)

आयुर्वेद में कामेच्छा एवं जोश जगाने के लिए किशमिश प्रस्तावित की गयी है। प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने के लिए किशमिश को सादे पानी में धो लें तथा इसके बाद इन्हें दूध के साथ उबाल लें। इससे ये फूले हुए और मीठे बन जाएँगे। बेहतर परिणाम प्राप्त करने के लिए इसका सेवन दूध के साथ करें। सेवन करने के समय 30 ग्राम किशमिश और 200 ग्राम दूध दिन में तीन बार लें। धीरे धीरे किशमिश की मात्रा 50 ग्राम तक कर लें।

 भिन्डी (Lady finger)

भिन्डी बाज़ार में पाई जानेवाली आम सब्ज़ियों में से एक है। भिन्डी एक पाउडर (powder) के रूप में भी उपलब्ध होती है जो समय से पहले होने वाले वीर्यस्राव को रोकने में आपकी सहायता करती है। आप इस पाउडर का प्रयोग नियमित रूप से कर सकते हैं। अगर आपने एक महीने तक इसका प्रयोग कर लिया तो आपको स्वयं ही फर्क पता चल जाएगा।

शीघ्रपतन रोकने के लिए आप चीनी और गर्म पानी के साथ भिन्डी का पाउडर मिला सकते हैं। इस पानी का एक प्राकृतिक औषधि की तरह रोज़ाना सेवन किया जा सकता है। इससे किसी प्रकार के कोई साइड इफेक्ट्स (side effects) नहीं होते। आप अपने सामान्य खानपान में भी भिन्डी को आसानी से शामिल कर सकते हैं।

गाजर (Carrots)

गाजर पुरुष और महिलाओं दोनों के लिए ही एक चमत्कारी तत्व साबित होता है। ये कई लोगों के लिए एक तरह का प्राकृतिक उपचार है, क्योंकि ये आपको हमेशा स्वस्थ बनाए रखता है। कई लोग त्वचा की टोन (tone) को अच्छा करने के लिए भी गाजर का प्रयोग करते हैं। लेकिन गाजर के गुण यहीं तक सीमित नहीं हैं। ये प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने में सहायता करते हैं। अगर आप बारीक कटे हुए गाजरों को आधे उबले अण्डों तथा एक चम्मच शहद के साथ मिलाकर इसका सेवन करें, तो आपको कुछ हफ़्तों में ही अच्छे परिणाम दिखने लग जाएंगे। क्योंकि गाजर आपकी कामुकता (libido) को बढ़ाने में काफी कारगर सिद्ध होते हैं, अतः आप इस प्राकृतिक उपचार का अवश्य प्रयोग कर सकते हैं।

अश्वगंधा (Ashvaganadha)

शीघ्रपतन के इलाज, अश्वगंधा एक आयुर्वेदिक जड़ीबूटी है जो कि मर्दों की सेक्स आधारित समस्याओं का निदान करने हेतु सबसे प्राकृतिक औषधियों में से एक है। आप किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह कर सकते हैं और उनके कहे अनुसार यह दवाई ले सकते हैं। इससे शरीर के गुप्तांगों की शक्ति बढ़ती है और सेक्स की शक्ति तथा नियंत्रण बढ़ता है। इसकी मदद से शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन की समस्या भी हल हो जाती है।

जामुन (Jamun)

जामुन की गुठलियों को छाया में सुखाकर पीस लें और चूर्ण बना कर रख लें, इस चूर्ण को गर्म दूध के साथ नियमित रूप से पीने से प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने में मदद मिलेगी।

व्यायाम (Exercise)

व्यायाम करने से शरीर की सारी समस्याएं हल होती हैं। रोज़ाना व्यायाम काफी आवश्यक है क्योंकि आजकल लोगों को मानसिक चिंताएं काफी होती हैं। रोज़ाना व्यायाम आपके शरीर को मज़बूत बनाता है।

शीघ्रपतन से छुटकारा पाने के लिए लाइफस्टाइल में कुछ बदलाव करने की आवश्यकता होती है जैसे :-

सही खानपान (Diet)

शीघ्रपतन के इलाज, शीघ्रपतन प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन रोकने का सबसे आसान और घरेलू तरीका सही खानपान का होता है। अच्छे खानपान से ना सिर्फ आपकी सेक्स आधारित समस्या हल होगी, बल्कि आप स्वस्थ जीवन भी जी सकेंगे। मिनरल्स के अलावा आपके शरीर में विटामिन्स, जिंक, सेलेनियम, कैल्शियम और आयरन भी होना चाहिए। फोलिक एसिड रक्तसंचार बढ़ाते हैं और रक्तवाहिनियों (artery) में ब्लोकेज को भी होने से रोकते हैं। लेकिन इन पदार्थों का सेवन ज़्यादा मात्रा में ना करें क्योंकि इससे दस्त की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

किसी भी तरह की लतों से दूर रहे (Stay away from any kind of addictions)

एल्कोहोल, डग्स और सिगरेट की लत नवर्स सिस्टम (nervous system) को कमजोर बनाती हैं, जो कि आपको राहत देता है। इन लतों से छुटकारा पाने से आपकी नवर्स सिस्टम आराम करने लगता है और आप में शीघ्रपतन की समस्या कम हो जाती है। तो अगर आप ऐसा चाहते हैं कि आप शीघ्रपतन की इस समस्या से जल्द से जल्द निजात मिल जाए तो ऐसे में आप सबसे पहले अपनी बुरी लतों को बाय बाय कहें, यह बुरी लते ही शीघ्रपतन का सबसे बड़ा कारण है।

एक संतुलित और स्वस्थ डाइट (Take a balanced and healthy diet)

शीघपतन का उपचार, एक संतुलित और स्वस्थ डाइट यौन कार्य में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। एक उचित पोषण आहार का सेवन करने से आपके शरीर में ताकत आती हैं, जिससे आप शीघ्रपतन से आसानी से छुटकारा पाने से आसानी मिलती है। संतुलित और स्वस्थ खाना खाने से आप आसानी से अपनी सेक्स लाइफ में बदलाव ला सकते हैं। इसमें आप कई सारी सब्जियां, फल खा सकते हैं, जिनका सेवन कर आप अपने स्वास्थ्य को और भी अच्छा बनवा सकते हैं। फल और सब्जियां मिनरल्स से भरी होती हैं, जो कि आपके नर्वस सिस्टम को मजबूत बनाती है और आसान तरीके से शीघ्रपतन को नियंत्रित करती है।

तनाव से लड़ने में मददगार (Fight stress)

तनाव इंसान को अंदर ही अंदर से मारता है या यू कहें कि खोखला कर देता है। तनाव आपको खोखला करने में हर तरह की कसर लगा देता है। तनाव के कारण चिंता बढ़ जाती है और पुरुषों में शीघ्रपतन का यह मुख्य कारण है। तनाव से मुक्ति पाने के लिए आपको आराम करना चाहिए। इसके लिए आपको पूरी नींद लेनी चाहिए। इससे निजात पाने के आप योगा की मदद ले सकते हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए आप छोटी छोटी बातों को दिल से ना लगाएं और बीच बीच में ब्रेक लेते रहे, ऐसा करने से आप तनाव से मुक्ति पा सकते हैं।

शीघ्रपतन रोकने के उपाय (Hindi tips to stop premature ejaculation quickly)

एक्यूपंक्चर (Acupuncture)

यह एक काफी पुरानी विधि है जिसकी मदद से शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोका जा सकता है। लेकिन इस प्रक्रिया को अपनाते समय आपको अपने खानपान का विशेष ध्यान रखना होगा। इनमें से कुछ नीचे दिए हुए हैं।

  • प्रेसेर्वटिव युक्त या चीनी से युक्त भोजन ग्रहण ना करें।
  • शराब, धूम्रपान और अन्य ड्रग्स से दूर रहें।
  • कैफीन युक्त पदार्थों, खासकर कॉफ़ी का सेवन ना करें।
  • काफी मात्रा में फल और हरी सब्ज़ियाँ खाने की आदत डालें।
  • क्योंकि मिनरल्स शीघ्रपतन (प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन) रोकने में काफी अहम भूमिका निभाते हैं, अतः मछली तथा अन्य मिनरल युक्त भोजनों को अपने खानपान में शामिल करें।

व्यायाम से शीघ्रपतन रोकने के तरीके (Premature ejaculation solution in Hindi with exercise)

गहरी लंबी सांस लें (Deep breathing)

Deep breathing

 

आप गहरी लंबी सांसे लेकर भी शीघ्रपतन पर नियंत्रण रख सकती हैं, यह शीघ्रपतन से निजात पाने का काफी आसान तरीका है। जितनी गहरी लंबी सांसे आप लेंगे आप उतने ही लंबे समय तक सेक्स का आंनद ले सकेंगे। छोटी सांसे लेने से हार्ट रेट बढ़ता है, जिससे शीघ्रपतन को बढ़ता है। इसलिए सावधानी से लंबी लंबी सांसे भरे, भले ही यह करने के लिए आपको थोड़ा अभ्यास की जरूरत पड़े। प्रतिदिन 5 मिनट के लिए कम से कम 2 से 3 बार लंबी सांसे भरे, ताकि आप बिस्तर पर भी इसका पालन कर सकें।

निचोड़ने की विधि (Squeeze)

स्क्वीज पेनिस का बेस (base) है, जो कि शीघ्रपतन को प्राकृतिक तरीके से कम करने में मददगार होता है। आप इस तकनीक का इस्तेमाल कभी भी कर सकते हैं, यह सरल अभ्यास पीई को रोकने में प्रभावी होती हैं, लेकिन इस बात को सुनिश्चित कर लें कि आप इसके लिए सही तरीके का इस्तेमाल करें। इस विधि के अंतर्गत अपने साथी के गुप्तांग को नीचे से ज़ोर से दबाएं। ऐसा तब करें जब आपके साथी का वीर्य निकलने ही वाला हो। इससे उसके गुप्तांग का इरेक्शन कम होगा और वीर्य नहीं निकलेगा।

स्टॉप एंड स्टार्ट विधि (Stop and start method)

इस प्रक्रिया के अंतर्गत अपने साथी को तीन से चार बार हस्तमैथुन करने के लिए कहें जिसमें वीर्य निकलने के समय पर उसका रूकना आवश्यक है। इससे उन्हें पता चलेगा कि किस समय एजैक्युलेशन होता है और वे इसपर अच्छे से नियंत्रण भी कर सकते हैं।

केगल व्यायाम (Kegel exercises)

kegel exercises

स्टार्ट एंड स्टॉप विधि (stop and start method) की तरह ही केगल व्यायाम सिर्फ महिलाओं तक सीमित नहीं हैं। पुरुष और महिलाएं दोनों ही इसका फायदा उठा सकते हैं पर अंत में ये मर्दों के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है। ये व्यायाम मर्दों के पेल्विक भाग (pelvic region) को मज़बूत करने के काम आते हैं और महिलाओं के क्षेत्र में ये उनके प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियों (pubococcygeus muscle) को मज़बूत बनाने में सहायता करता है। डॉक्टरों के अनुसार केगल व्यायाम समय से पहले वीर्य के स्त्राव को रोकने में काफी प्रभावी सिद्ध होते हैं। अगर आपके साथी को इस मांसपेशी के बारे में नहीं पता, तो उससे बाथरूम (bathroom) में अपने मूत्र का बहाव रोकने के लिए कहें। इसे रोकने के लिए प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियां ज़िम्मेदार होती हैं। अगर उसे मांसपेशियों को ढूंढने में सफलता हासिल हो जाए तो उससे मूत्र को रोकने जैसा व्यायाम रोज़ाना करने की सलाह दें। इसमें वे अपनी जांघें, पृष्ठ भाग तथा पेट के भाग का प्रयोग नहीं कर सकते। केगल व्यायाम के वक्त इन सारे भागों का ढीला होना काफी आवश्यक है। आदर्श तौर उन्हें यह व्यायाम रोज़ाना तीन सेट (set) में करने को कहें तथा हर सेट के बीच में 10 सेकंड का अंतराल लेने को कहें। इस व्यायाम का मुख्य उद्देश्य प्यूबोकोसीजेअस मांसपेशियों को सिकोड़ना है तथा जब आपका साथी चरमसीमा (orgasm) तक पहुंचे, तो उसे सारी प्रक्रिया को जितना हो सके धीमा करने का प्रयास करना चाहिए।

तांत्रिक तरीके (Tantric techniques)

अगर आप सेक्स के दौरान नए प्रयोग करने में यकीन रखते हैं तो सामान्य सेक्स के मुकाबले आपके लिए यह ज़्यादा आनंददायक साबित होगा। तांत्रिक तरीकों का पालन करने से आपके और आपके साथी के बीच एक गहरा सम्बन्ध स्थापित होता है। यह एक काफी आसान तकनीक है, पर अगर आप इसका सही तरीके से पालन करते हैं तो ना सिर्फ इसे शीघ्रपतन रूकता है, बल्कि आपके सेक्स जीवन में भी काफी नयापन आता है। इस तकनीक के अंतर्गत जब आपके साथी का वीर्य निकलने वाला हो, तो उसे तुरंत ये प्रक्रिया रोक देनी चाहिए। इसके बाद उसे अपनी प्युबोकोसीजियस मांसपेशियों (Pubococcygeus muscle) को सिकोड़कर अपनी ठुड्डी को अपनी छाती तक लाने का प्रयास करना चाहिए। इस प्रक्रिया का पालन करने का मुख्य उद्देश्य वीर्य निकलने के स्त्राव की ऊर्जा को और बढ़ने से रोकना होता है। जब आपका साथी वीर्य निकलने से पहले ही इस प्रक्रिया को रोक देगा, तो उसे काफी अजीब महसूस होगा। यह वीर्य निकलने से रोकने के लिए काफी ज़रूरी है। अगले कदम के रूप में पुरुष को लम्बी सांसें लेकर अपनी साथी के शरीर की गर्माहट को महसूस करना चाहिए। बेहतर परिणामों के लिए इस प्रक्रिया का पालन तब तक करना चाहिए, जब तक इसमें पारंगत ना बन चुके हों।

औषधीय विकल्प (Various medical options)

ऐसा नहीं है कि शीघ्रपतन होने से हर किसी के मन में तनाव की भावना उत्पन्न हो जाती है। कुछ लोग इसे लेकर ज्यादा नहीं सोचते और इसका समाधान अपने तरीके से निकालते हैं। लेकिन अगर आपको लगता है कि इससे आपके आनंद में कमी आ रही है तो आप ज़ोलोफ्ट और प्रोजाक (Zoloft and Prozac) जैसी दवाइयों का सेवन करने के लिए अपने साथी को कह सकती हैं। ये दवाइयां शीघ्रपतन की स्थिति के दौरान आपकी मदद करती हैं, एवं आपका साथी बिस्तर में आने से कई घंटे पहले भी इन दवाइयों का सेवन कर सकता है। यह काफी सरल प्रक्रिया है। एक बार इस दवाई का सेवन कर लेने पर जब आप दोनों अच्छा वक्त बिताना शुरू कर रहे हों, तो उस समय पुरुष की कामुकता में इजाफा होगा। इससे ना सिर्फ वीर्य निकलने से रुकेगा, बल्कि पहले के मुकाबले आपके सेक्स की प्रक्रिया भी काफी बेहतर हो जाएगी। इन दवाइयों का बिना किसी परामर्श के सेवन करने की जगह आपके लिए बेहतर यही होगा कि आप किसी यूरोलोजिस्ट (urologist) या सामान्य डॉक्टर से इस विषय में सलाह कर लें। वे आपको सही परामर्श दे पाएंगे।

शीघ्र वीर्य स्खलन रोकने के लिए बेचैनी दूर करें (Reducing the anxiety during sex)

कई मर्द सेक्स की प्रक्रिया के दौरान काफी नर्वस (nervous) या बेचैन हो जाते हैं और उन्हें बिस्तर पर अपने सही प्रदर्शन ना करने का डर लगा रहता है। कई मामलों में इसी डर की वजह से समय से पहले वीर्यस्राव हो जाता है। इस समय दिमाग को ठंडा रखें तथा अपने साथी के बारे में सोचें कि वह आपसे कितना प्यार करती है। शुरुआत में ही अंतिम प्रक्रिया के बारे में ना सोचें।

शीघ्रपतन को रोकने के लिए योग की मुद्राएं (Yoga poses to stop premature ejaculation or yoga for shighrapatan)

सर्वंगासन (Sarvangaasana or shoulder stand)

Sarvanga-asana

यह उन थाइरोइड ग्रंथियों (thyroid glands) को सुचारू रूप से चलाने में सहायता करती है, जो शरीर की हर क्रिया के लिये काफी ज़रूरी होते हैं। इस आसन की सबसे अच्छी बात यह है कि यह एड्रेनल (adrenal) ग्रंथियों को मजबूती प्रदान करता है तथा टेस्टिस (testis) की कार्यक्षमता को बढ़ाता है। इससे शुक्राणुओं की गुणवत्ता में निखार आता है।

  • एक चटाई पर पैर फैलाकर लेट जाएं।
  • घुटनों को मोड़कर या सीधे ही पैरों को धीरे धीरे उठाएं।
  • अपनी हथेलियों को पीठ और कूल्हों के पास रखें और पैर की उँगलियों को ऊपर की ओर करते हुए शरीर को ऊपर उठाएं। आपका वज़न आपके कन्धों पर होना चाहिए। धीरे धीरे सांस लें और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती पर रखें। आपकी कोहनियाँ फर्श को छूनी चाहिए तथा आपकी पीठ को भी सहारा मिलना चाहिए।
  • इस मुद्रा को जितनी देर हो सके बनाकर रखें तथा शुरूआती मुद्रा में धीरे धीरे लौट जाएं। इस समय लेट ना जाएं क्योंकि इससे आपकी पीठ तथा कन्धों को चोट पहुँच सकती है।

पश्चिमोतासन (Paschimotasana for sex in hindi)

Paschimotasana

यह शीघ्रपतन रोकने के सबसे अच्छे आसनों में से एक है। इससे आपके शुक्राणु और भी शक्तिशाली बनते हैं। इससे मेटाबोलिज्म (metabolism) में भी वृद्धि होती है।

  • सीधे बैठें और फिर ऐसे लेटें कि आपके पैर की उंगलियाँ ऊपर की ओर हों।
  • सांस लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर उठाएं। सांस छोड़ें और रीढ़ को सीधा रखते हुए अपने पैर की उँगलियों की ओर झुकें।
  • पैर के अंगूठे को तर्जनी और अंगूठे से पकड़ें और ऐसा करते हुए सांस लेते रहें।
  • अब सांस छोड़ें और धीरे धीरे अपने घुटनों की ओर झुकें। ध्यान रखें कि आपकी कोहनियाँ फर्श को ना छुएं।

इस मुद्रा में कम से कम 15 से 20 सेकंड तक रहें और सांस रोके रखें। अब धीरे धीरे सांस लेते हुए बैठने की मुद्रा में आ जाएं। अच्छे परिणामों के लिए इस आसन को 5 से 6 बार दोहराएं।

उत्तानपाद आसन (Uttanapada asana)

Uttanapada-asana

यह आसन करना काफी आसान होता है, इसके लिए सिर्फ थोड़ा सा अभ्यास की जरूरत होती है। इसके लिए फर्श पर लेट जाए और फिर हाथों को फैलाकर उन्हें 45 डिग्री तक पैरों के साथ ऊपर उठाएं। हाथों की हथेलियों से पैर की उंगलियों को छूने की कोशिश करें। इसके बाद अपनी गर्दन को नीचे की तरफ मोड़े और पीछे की तरफ को वक्र बनाने की कोशिश करंे। इस मुद्रा में कुछ समय तक बने रहे।

गोमुखासन (Gamukhasana yoga for shighrapatan in hindi)

Gamukhasana

गोमुखासन एक सरल योग आसन है जिससे कई विशेष लाभ होते हैं। योग की इस मुद्रा को करने से शीघ्रपान जल्दी होने पर रोकथाम लगाता है। इस मुद्रा में 1 मिनट के लिए रहे और फिर दूसरी तरफ से इस आसान को करें। इस आसन के 2 से 3 सेट जरूर करें।

धनुरासन (Dhanurasana se shigrapatan upay in hindi)

Dhanurasana

इस योग को करने के लिए आपको अपने पेट को फ्लैट करें। इसके बाद अपने पैरों को की और ऊपर उठाएं और उन्हें अपने हाथों से पकड़ने की कोशिश करें। इस मुद्रा में कम से कम 30 सेकेंड तक रहे और फिर हाथों को छोड़कर उल्टे लेट जाएं।

भुजंगासन (Bhujangasana)

Bhujangasana

भुजंगासन या कोबरा मुद्रा में बैठने से शीघ्रपतन में काफी सहायता मिलती है। इस आसन में अपने पेट को फ्लैट करना होता है और फिर शरीर को ऊपर की तरफ को खींचना होता है। अपने शरीर को ऊपर की तरफ खींचे, लेकिन अपने गर्दन को नहीं। अपने हाथों को कंधे के दोनों तरफ रखकर संतुलन बनाने की कोशिश करें।