How to increase sex stamina in men tips in Hindi – यौन क्षमता को बढ़ाने के लिए पुरुषों के लिए टिप्स/उपाय

सेक्स/ संभोग, समागम या संसर्ग सभी जीवित प्राणियों में पाई जाने वाली एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जिसका उद्देश्य वंश वृद्धि के साथ साथ नर और मादा दोनों को सामान रूप से दैहिक और मानसिक सुख प्रदान करना है। मनुष्य के अलावा अन्य प्राणियों में सेक्स का एक विशेष काल या समय होता है तब ही वे संभोग करते हैं वही मानव के लिए कोई ऐसा बंधन नही होता है। सेक्स की इच्छा हर मनुष्य को सामान्य रूप कभी भी हो सकती है। किसी भी मानव को सेक्स करने की विधि बताने की आवश्यकता नही पड़ती है, यह कला हर मनुष्य में पहले से ही मौजूद होती है तथा हर जोड़ा अपने हिसाब और अपने तरीके से सेक्स करना पसंद करता है। सेक्स इच्छा और सेक्स को लेकर कई अपवाद हो सकते है। यह उम्र, शारीरिक परिस्थिति, दोनों जोड़ो का आपसी समन्वय, रंग रूप इत्यादी कारको पर भी निर्भर करती है। एक 20 वर्ष के किशोर और एक 50 वर्ष के प्रौढ़ में सेक्स को लेकर अलग-अलग रोमांच और अनुभूति होती है। कई बार कई किशोर, जिन्हें सेक्स का कोई अनुभव नहीं होता, खुद में कामुकता की कमी तथा सेक्स के प्रति अनिच्छा महसूस करते हैं।

आजकल सेक्स रोग और यौन क्षमता को बढ़ाने का बाजारीकरण हो चूका है। कई मेडिकल कंपनिया इसका भरपूर लाभ उठा रही हैं। दरअसल यौन क्षमता आधा दैहिक और आधा मानसिक कारको पर निर्भेर है। आजकल पुरुषों में सेक्स की शक्ति, यौन क्षमता जगाने के कई तरीके उपाय मौजूद हैं। यौन क्षमता में कमी काफी आम समस्या है जो कि पुरुषों/ मर्दों के साथ एक ख़ास उम्र में पेश आती है। इसे सेक्स के दौरान स्टैमिना बरकरार रखने की कमी कहा जाता है। पुरुष समागम की क्रिया को लम्बे समय तक करना चाहते है और इसीलिए सेक्स के लिए ज़रूरी स्टैमिना बढ़ाने की चाह में अक्सर रहते है। हम यहा पर आपसे यौन क्षमता या स्टेमिना को प्रभावित करने वाले कारकों और उनसे बचाव के तरीको पर आपसे विशेष जानकारी शेयर कर रहें हैं।

सेक्स की शक्ति / यौन क्षमता कम होने के कारण (Causes low sexual stamina in men)

अस्वास्थ्यकर खानपान (Unhealthy food habits)

खानपान सेक्स की शक्ति / सेक्स की क्षमता को गहरा प्रभाव डालता है।  अस्वास्थ्यकर भोजन या अत्याधिक जंक फ़ूड खाने से शरीर की सेक्स क्षमता प्रभावित होती है और पुरुषों में पौरुष क्षमता कम होकर स्खलन शीघ्र हो जाता है।

ज़्यादा दवाइयों का सेवन (High medication)

ज़्यादा दवाइयों का सेवन करने वाले पुरुष भी इस समस्या का शिकार होते हैं। अत्यधिक मात्रा में स्टेरोइड्स , पौरुष क्षमता बढ़ाने वालीं अंग्रेजी दवाएं शरीर पर विपरीत असर भी डालती है। दवाइयाँ तभी लेनी चाहिए जब आवश्यक हों और चिकित्सक द्वारा निर्देशित की गई हों। कई लोग अपनी सेक्स की क्षमता को बढ़ाने के लिए खुद ही दवाइयाँ ले लेते हैं जो कि घातक सिद्ध हो सकता है। इन दवाओं का पुरुष प्रजनन अंगो तथा सेक्स की इच्छा पर विपरीत प्रभाव पड़ सकता है।

धूम्रपान और शराब की लत (High intake of alcohol and excessive smoking)

धूम्रपान और शराब का सेवन आपकी कामुक इच्छाओं को दबाने का कार्य करते हैं। इसके सेवन से चरमोत्कर्ष (orgasm) की प्रक्रिया में कमी आती है, जिससे कि सेक्स की शक्ति / यौन क्षमता घटती है। पौरुष शक्ति बढ़ाने के लिए धुम्रपान और शराब का सेवन बंद कर देना चाहिए।

व्यायाम न करना (Avoiding exercising)

व्यायाम करने से शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है और मांसपेशिया एक्टिव हो जाती है। व्यायाम करने से प्रजनन अंगों में रक्त का संचार बढ़ जाता है जिससे लिंग में कठोरता आकर उत्थान (erection) जल्दी होता है। व्यायाम से वीर्य का स्त्राव (ejaculation) काफी अच्छे से होता है और सेक्स/संभोग की क्रिया भी लम्बे समय तक चलती है। प्रत्येक व्यक्ति को व्यायाम अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

ध्यान भटकना (Distraction)

सेक्स में  संतुष्टि के लिए समागम कर रहे जोड़ो का ध्यान केवल अपने संसर्ग पर होना चाहिए। प्राय: देखा गया है कि जब कोई व्यक्ति अपने साथी और अपने सेक्स की इच्छा की ओर ध्यान नहीं दे पाता तो उसका ध्यान भटक जाता है जो कि उसके द्वारा की जाने वाली सेक्स / संभोग की क्रिया को प्रभावित करता है। ऐसे में शीघ्रपतन (Early Ejaculation) होने की सम्भावना अधिक रहती है। ध्यान भटकने की वजह से  पुरुष अच्छे से ऑर्गैस्म (चरमोत्कर्ष) प्राप्त नहीं कर पाते और बेचैन हो जाते हैं, जिससे समय से पहले एजैक्युलेशन का ख़तरा रहता है और सेक्स काफी कम समय तक चलता है। कहा गया है कि सम्भोग भी एक प्रकार से समाधि है जिसमें ध्यान लगाना अनिवार्य है।

बेचैनी और तनाव (Anxiety and Stress)

बैचेनी और तनाव स्वाभाविक रूप से व्यक्ति को हर कार्य जल्द ख़त्म करने हेतु बाध्य करते हैं। जब मर्द तनाव में और बेचैन होता है तो उसके रक्त का संचार सुचारू रूप से नहीं होता व तनाव में काफी पसीना भी निकलता है। तनाव और बैचेनी में सहवास पर ध्यान केन्द्रित नही हो पाता व पार्टनर को इससे असंतुष्टि होती है। तनाव से बचाव हेतु योग, ध्यान और प्राणायाम किया जाना चाहिए।

मर्दों में सेक्स की शक्ति / यौन क्षमता बढ़ाने के फायदे (Hindi Benefits of increased sexual stamina in men or sex in hindi)

पुरुषों को नियमित रूप से अच्छा खानपान, नियमित आसान व्यायाम तथा शराब, ड्रग्स (drugs) एवं सिगरेट्स (cigarettes) से छुटकारा पाकर  सेक्स (पौरुष) की शक्ति बढ़ाने का प्रयास करना चाहिए। अगर आप इन घरेलू उपायों का प्रयोग करके अपनी सेक्स और यौन क्षमता बढ़ाने में कामयाब रहते हैं तो इसके निम्नलिखित फायदों का लाभ आप उठा सकते हैं।

    • सेक्स/संभोग की प्रक्रिया को लंबा हो जाती है।
    • चरमोत्कर्ष (orgasm) का अहसास बेहतर होता है।
    • वीर्यस्राव (ejaculation) सही प्रकार से होता है।
    • अच्छे सेक्स से तनाव, चिंता और बेचैनी कम होती है।
    • पूरी तरह से संतुष्टि प्राप्त होती है।
  • सेक्स करने का अनुभव और भी बेहतर होता है, जिसके फलस्वरूप सेक्स में ज्यादा मन लगता है।

अगर आप ज़्यादा देर तक सेक्स की प्रक्रिया में भाग नहीं ले पाते, तो इससे शर्मिंदा होने की कोई आवश्यकता नहीं है। आपको इस बारे में अपने साथी से बात करनी चाहिए और अगर ज़रूरी हो तो किसी गुप्त रोग विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। एक स्वस्थ, तनावमुक्त तथा अनुशासित जीवनशैली अपनाकर भी इस समस्या को दूर किया जा सकता है।

यौन क्षमता को बढ़ाने के लिए आप और भी कई उपाय कर सकते हैं। सेक्स / संभोग सिर्फ एक संवेदना (sensation) नहीं है, यह एक तरह का योग है जिसका अभ्यास आप बिस्तर पर करते हैं। लेकिन बिस्तर पर कार्यशील रहने के लिए आपको कुछ जरुरी बातों का पालन करना होगा।

यूँ तो कई लोगों से आपने सुना होगा कि स्वरति यानि हस्तमैथुन से कमजोरी होती है किन्तु यह सही नही है। खुद को आनंद देने की प्रक्रिया काफी आवश्यक है, और इसलिए निश्चित समयांतराल पर एकांत में हस्तमैथुन (masturbation) करके स्वआनंद की अनुभूति ली जा सकती है। यह प्रक्रिया प्राकृतिक होने के साथ ही स्वास्थ्यकर भी है। इससे आपको सेक्स की प्रक्रिया के दौरान काफी आसानी होगी और आप अपने साथी के साथ बेहतर ढंग से सेक्स कर पाएंगे।

पुरुषों की सेक्स की शक्ति / यौन क्षमता बढ़ाने के तरीके (Tips in Hindi to increase sex stamina)

गुप्तांगों की मांसपेशियों को खींचें (Stretch groin muscle)

आप ऐसे कई लोगों को जानते होंगे जो रातभर सेक्स करने के बाद सुबह मांसपेशियों के दर्द से परेशान रहते हैं। अगर आप निरंतर रूप से अपने ग्रोइन या गुप्तांगों को खींचते रहें तो इससे सेक्स करने के बाद होने वाले दर्द में कमी आएगी। इससे आपके सेक्स की शक्ति आसानी से बढ़ेगी और आप सेक्स की क्षमता को बढ़ाके आनंद ले पाएंगे। प्रात: अथवा सांयकाल में मांसपेशीओं को स्ट्रेच करके आप इस समस्या को दूर कर सकते है।

दिमागी रूप से ध्यान लगाएं (Staying mentally focused)

यदि आप वास्तिवकता में एकाग्र होकर ध्यान लगाने की कला का अभ्यास करते हैं तो आपका यह निर्णय आपकी पौरुष क्षमता में बढोतरी करेंगा। यदि आप अपने साथी के साथ समागम (सेक्स) कर रहें हैं तो मन में और किसी भी प्रकार की चिंता को ना आने दें, यह सारी चिंताओं को दूर करने का और अपने साथी के साथ एक आदर्श समय बिताने का वक़्त होता है। सारी चिंताए बाहर छोडकर ही बिस्तर पर जायें।

हाथों की मांसपेशियां बनाने के लिए व्यायाम (Workouts for building arm muscles)

जिन पुरुषो में सेक्स की क्रिया करने की अत्यधिक इच्छा होती है , उनके शरीर के ऊपरी भाग में काफी शक्ति होनी चाहिए। कई लोग हाथों की मांसपेशियां कमज़ोर होने की वजह से यह शक्ति प्राप्त नहीं कर पाते हैं। सही तरीके से व्यायाम करें जिससे कि आप अपनी महिला साथी का भार अपने कन्धों और हाथों पर उठा सकें। बीच बीच में फ्रीवेट सेशन का लाभ उठाएं जिससे कि आपके हाथ की मांसपेशियां मजबूत हों।

रक्तसंचार में वृद्धि (Improvement in blood flow for sex in hindi)

सेक्स की शक्ति कम होने या गुप्तांगों में किसी प्रकार की समस्या होने पर निसंकोच होकर डॉक्टर से सलाह ली जानी चाहिए। मांसपेशीयों में रक्त का संचार बढ़ाने के लिए कभी कभी प्राकृतिक विधियों का इस्तेमाल अधिक कारगर सिद्ध होता है। यह कार्य आप बिना वियाग्रा की मदद के भी कर सकते है।  इसके लिए रोज़ाना गुप्तांगों की मुख्य मांसपेशी की ओलिव आयल से मालिश करें। इससे उन मांसपेशीयों में काफी अच्छे से रक्त संचार होगा जिसकी आवश्यकता आपको बिस्तर पर अपने साथी के साथ सहवास के दौरान होगी।

पेट की मांसपेशियों को लोचदार बनाना (Flexibility in abdominal muscles)

कसा हुआ और सुगठित, स्वस्थ शरीर देखने में काफी आकर्षक लगता है और महिलाओं का आकर्षित भी करता है। पेट के व्यायाम निरंतर जारी रखते हुए  पेट की मांसपेशियों को लोचदार बनाना संभव है। इससे आप अपनी सेक्स की शक्ति में काफी वृद्धि कर सकते हैं। क्योंकि पेट की मांसपेशियां सेक्स के दौरान आपको काफी ऊर्जा प्रदान करती हैं, अतः आप अपने ग्रोइन (groin) को आसानी से बढ़ा सकते हैं। यदि यह किया जायें तो सेक्स के दौरान आपको कभी रूकना नहीं पड़ेगा और आपकी साथी को चरम आनंद की प्राप्ति होगी जिस कारण वह आपसे काफी प्रसन्न रहेगी।

स्टार्ट और स्टॉप विधि से हस्तमैथुन (Masturbate more)

हस्त मैथुन खुद को आनंद देने की एक सरल प्रक्रिया है जिससे कि आप अपनी सेक्स की शक्ति को एक स्वास्थ्यकर तथा प्रभावी रूप से नियंत्रित करके इसमें बढ़ोत्तरी भी कर सकते हैं। हस्त मैथुन सेक्स की प्रतिक्रिया को बदलने में सहायक होता है, जो आप स्टार्ट तथा स्टॉप विधि (start and stop method) के द्वारा कर सकते हैं। हस्तमैथुन यदि आप रुक-रुक कर करते है तो आपका स्टेमिना बढ़ जाता है। इससे आपको सेक्स की क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलेगी, क्योंकि आपको अपनी प्रतिक्रियाओं पर नियंत्रण रखने का अभ्यास आ चूका होगा।

फोरप्ले (Foreplay for long time sex)

फोरप्ले दरअसल सहवास के पूर्व किये जाने वाली कुछ अतिरिक्त क्रियाएँ हैं जिनका विस्तार से वर्णन कामसूत्र में भी मिलता है।  फोरप्ले सहवास और आनंद हेतु अनिवार्य है, मर्दों को हमेशा याद रखना चाहिए कि महिलाओं को ऑर्गैस्म (चरम आनंद) के लिए पुरुषों के मुकाबले ज़्यादा समय की आवश्यकता होती है। अतः उन्हें पूरी तरह संतुष्ट करने के लिए फोरप्ले की प्रक्रिया पर ज़्यादा ध्यान दें, जिससे कि उन्हें संतुष्ट होने का पूरा समय मिले। फोरप्ले के अंतर्गत छूने, किस करने, हाथों को उनके शरीर के विभिन्न भागों पर सहलाने तथा कामुक शब्दों का प्रयोग करने जैसी विधियों का प्रयोग करें।

लुब्रिकेशन (Lubrication)

लुब्रिकेशन सेक्स की शक्ति को बढ़ाने तथा बिस्तर पर ज़्यादा देर तक टिकने का एक काफी प्रभावशाली तरीका सिद्ध हुआ है। पानी आधारित लुब्रिकेंट्स (water based lubricants), तेल आधारित लुब्रिकेंट्स (oil based lubricants) से ज्यादा बेहतर होता है। आजकल बाजारों में कई प्रकार के तेल मौजूद है किसी एक का चुनाव किया जा सकता है।

सांस लेना (Breathing)

सेक्स/सहवास  के दौरान अपनी साँस पर पूरा नियंत्रण रखें। तेज़ सांस लेने और तनाव से प्रीमैच्योर एजैक्युलेशन (शीघ्र पतन) की समस्या होती है। गहरी और धीमी सांसें लेने से मन शांत रहता है और आपको अपने साथी के साथ ज़्यादा अपनेपन और पास होने का अनुभव होता है। इसलिए जब भी सेक्स करें, किसी प्राणायाम की भांति हलकी हलकी और लम्बी साँस लें, ताकि मांसपेशीय शिथिलन एक जैसा बना रहे।

वज़न (Weight)

सेक्सशक्ति या यौन क्षमता के कम होने के शिकार लोगों में से कई ऐसे भी होते जिनका अपने वजन पर नियंत्रण नही होता है। कई बार एक साथी का वजन अत्यधिक होने के कारण भी सहवास की सरल प्रक्रिया में बाधा आती है और प्राय: एक साथी असंतुष्ट ही रह जाता है। आवश्यक है कि अपने वजन पर नियंत्रण रखते हुए स्वयं को फिट और तंदुरुस्त रखा जावे।

यौन क्षमता को बढ़ाने की उपरोक्त वर्णित समस्त प्रक्रियाएँ काफी सरल और खुद के द्वारा की जा सकती हैं। प्रत्येक व्यक्ति को चाहिए कि वह अपनी मानसिक और शारीरिक बाधाओं का निराकरण करके और अपने साथी के व्यवहार का आकलन करके, यौन क्षमता में कमी के वास्तविक कारणों को जानने के पश्चात ही यौन क्षमता बढ़ाने की कोई विधि अपनाएं। आज के समय में अब ये जरूरी है कि सेक्स को हेय दृष्टी से न देखकर एक आनंद के विषय के रूप में जानना चाहिए।